हॉस्पिटल के किस चार्ज पर लगेगा GST ? जानिए राज्यसभा में वित्त मंत्री का ऐलान

जीएसटी परिषद की 28-29 जून की बैठक में गैर-आईसीयू कमरों पर 5% जीएसटी लगाने का निर्णय लिया गया, जिनका किराया 5,000 रुपये प्रति दिन से अधिक है, अब वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने स्पष्टीकरण जारी किया है।

जीएसटी बैठक के बाद वित्त मंत्री (निर्मला सीतारमण) ने जानकारी दी कि 18 जुलाई से कई वस्तुओं के दाम बढ़ेंगे. 18 जुलाई से स्थिर वस्तुओं की कीमतों में भी संशोधन किया गया है। लेकिन इस बीच, वित्त मंत्री ने आटा, चावल, दाल जैसी वस्तुओं के अलावा अस्पताल के बिस्तर या आईसीयू पर जीएसटी को लेकर लोगों के बीच भ्रम को दूर करते हुए एक बड़ा अपडेट दिया है.

वित्त मंत्री ने दी जानकारी

दरअसल, अब वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने राज्यसभा में अस्पताल के बेड पर जीएसटी लगाने के फैसले पर सफाई दी है. वित्त मंत्री ने कहा है कि सरकार ने अस्पताल के बेड या आईसीयू पर कोई टैक्स नहीं लगाया है. इसके बजाय, केवल उन अस्पताल के कमरे जिनका किराया 5,000 रुपये प्रति दिन है, पर जीएसटी लगाया गया है। वित्त मंत्री ने यह बात राज्यसभा में महंगाई पर हो रहे विरोध के जवाब में कही है।

लगातार विरोध

दरअसल, अस्पतालों में इलाज पहले ही महंगा हो गया है।28-29 जून को जीएसटी परिषद की 47वीं बैठक के बाद गैर-आईसीयू कमरे जिनकी कीमत 5,000 रुपये प्रतिदिन से अधिक है। इस पर 5 फीसदी जीएसटी लगाने का फैसला किया गया। उसके बाद यह नया नियम 18 जुलाई 2022 से लागू हो गया है। लेकिन फिर इस फैसले की लगातार आलोचना हो रही है. इससे पहले वित्त मंत्री कई बार ट्वीट कर लोगों के भ्रम को दूर कर चुकी हैं। इस संबंध में एक बार फिर वित्त मंत्री ने अपना स्पष्टीकरण पेश किया है।

फैसले को वापस लेने का अनुरोध

विशेष रूप से, स्वास्थ्य सेवा उद्योग से लेकर अस्पताल संघों और अन्य हितधारक लगातार सरकार से इस फैसले को वापस लेने की मांग कर रहे हैं। दरअसल, उनका तर्क है कि अस्पताल के बेड पर जीएसटी लगाने के फैसले से लोगों के लिए इलाज कराना और महंगा हो जाएगा. इसके साथ ही स्वास्थ्य सेवा उद्योग के सामने अनुपालन संबंधी कई मुद्दे उठेंगे क्योंकि स्वास्थ्य सेवा उद्योग को अब तक जीएसटी से छूट दी गई थी। इसके बाद स्वास्थ्य सेवा उद्योग के सामने बहुत ही विकट स्थिति उत्पन्न हो सकती है।

जानिए क्या होगा जीएसटी का असर

उदाहरण से समझें तो मान लीजिए एक अस्पताल के बिस्तर का एक दिन का किराया 5,000 रुपये है तो 250 रुपये जीएसटी के तौर पर देने होंगे। अब अगर किसी मरीज को 4 दिन अस्पताल में रहना है तो 5000 प्लस जीएसटी 250 यानि कमरे का किराया 20000 की जगह 21000 रुपये,इस वजह से जितने अधिक दिन मरीज अस्पताल में रहेंगे, उन्हें प्रतिदिन उतना ही अधिक पैसा देना होगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published.